About

महिला कल्याण समिती वर्ष 2007 से सम्पूर्ण बिहार और बिहार के बाहर कई राज्यों में सामाजिक उत्थान , शिक्षा , कला और स्त्रियों के जीवन में आर्थिक बदलाव जैसे विभिन्न मुद्दों पर कार्य करता रहा है। हमारा कार्य मुख्यतः छः बिन्दुओ पर केंद्रित है –

१- समाज में धर्म और जाती के आधार पर भेदभाव को खत्म करना

२- शैक्षिक और आर्थिक स्वालम्बन करना

३- समाज में स्त्रियों पर हो रहे जुल्म और शोषण के खिलाफ कार्य करना

४- एकांकी जीवन व्यतीत कर रहे बच्चे से बुजुर्ग तक को स्वस्थ माहौल प्रदान करना .

५- किसी भी प्रकार की विषम परिस्थिति में संघर्षरत जीवन को सहायता उपलब्ध कराना .

६- कृषि से जुड़े कार्यो के माध्यम से किसानो को आधुनिक तकनीकी से औगत करना ..

विगत कई वर्षों में महिला कल्याण समिती ने राज्य और देश भर में अपने साथ कार्यकर्ताओं का एक मजबूत आधार तैयार किया है। जिसके माध्यम से हम कार्य को पूर्णता प्रदान कर रहे है ..

हमारी संस्था बिहार के सभी जिलो के साथ साथ कई प्रदेशो में एक अलाभकारी संगठन के रूप में कार्यरत है . हम अभी तक व्यक्तिगत समर्थकों एवं सहयोगियों के द्वारा प्रदत्त अनुदानों पर कार्य करते आ रहे है।

इस आर्थिक अनुदानों के माध्यम से हम सबसे पहले समाज में ऐसे लोगो को खोज कर उन्हें आर्थिक राह पर अग्रसर करते है जिन्हें सहारा या सहायता के नाम पर आज भी पूर्ण रुपें वंचित होते है . जिसमे महिलाये होती है , बच्चे होते है युवा होते है . कई ऐसे सुदूर ग्रामीण इलाको में कलाकार है जिनकी पहुँच शहरो तक नहीं हो पाती वैसे पुरुष -महिला कलाकारो को मुख्य धारा में ला कर उनकी काबिलियत को दुनिया के सामने प्रस्तुत करते है . अनाथ बेसाहरा बच्चो को या जिन्दगी के अंतिम सफर में खुद को तन्हा और अकेला रहने वाले लोगो को एक एसा वातावरण प्रस्तुत करते है जहा वे अपने आप को शांति और सकून से आगे की जिन्दगी गुजारते है .

इसी प्रकार महिलाओं पर हो रहे सामाजिक अपराध या उनके ऊपर हो रहे शोषण के खिलाफ पुर जोर तरीके से खड़े हो कर उन्हें हर प्रकार की सहायता प्रदान करते है जिसमे आर्थिक से ले कर कानूनी परामर्श भी साहिल होता है .

बिगत कई वर्षो से बिहार में बाढ़ सुखाड़ या आकस्मिक प्रकोप आ जाते है जिसमे हमारी संस्था पुर जोर तरीके से प्रभावित जान माल को यथा संभव मदत पहुचाते है . कई ऐसे मौको पर हमारी पूरी टीम ऐसे हालत का सामना की है जिसमे जान तक डाव पर लगा चुके है पर हमारी पहली प्राथमिकता होती विपदा में घिरे लोगो को तत्काल राहत प्रदान करना .

कृषि के क्षेत्र में या दुग्ध व्यवासय के क्षेत्र में जुड़े हमारे पुरुष महिला भाई बहनों को उन्नत तकनीक की जानकारी और उन्हें तकनीकी शिक्षा प्रदान करा कर उन्हें और आर्थिक मजबूती प्रदान करते है …

ग्रामीण परिवेश में समाज के हर वर्ग में धर्म और जाती के आधार पर विभाजन देखा जा सकता है , उस विभाजन और रूढ़िवादी विचारों को तोड़ कर नए समाज में सबका साथ सबका विकास का सन्देश देते हुए भाईचारा और सामाजिक सौहार्द को बनाये रखने पर हम प्रति दिन कार्यरत है ….