गुडमॉर्निंग प्रणाम भारत जय श्री राम🙏

0
23

गुडमॉर्निंग प्रणाम भारत जय श्री राम🙏
आज 10 जनवरी विक्रम संवत 2075 पौष मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथी दिन गुरुवार का सूर्योदय आप सभी के लिए एक नया सवेरा लेकर आया है । आज भूत और वर्तमान में होड़ लगी है कौन महान है । लेकिन सबसे पहले आप सबको विश्व हिंदी दिवस की हार्दिक बधाई । हिन्दी, विश्व में सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषाओं में से एक है और अपने आप में एक समर्थ भाषा है।

बात करे वर्तमान की तो पिछले दो दिनों में एक ऐतिहासिक कार्य को सम्पूर्णता देने वाले हमारे माननीय यसस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र भाई मोदी जी को सहृदय धन्यवाद । आजादी के बाद से बहुप्रतीक्षित सवर्ण ग़रीबों के लिये आरक्षण बिल को संसद से पास करवाकर एक ऐतिहासिक कार्य करने के लिए बधाई और इसको सुचारू रूप से लागू करने के लिए शुभकामनाएं ।
सामान्य श्रेणी के आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों के लिए सरकारी नौकरी और शिक्षण संस्थानों में 10 फीसदी आरक्षण देने वाला 124वां संविधान संसोधन विधेयक कल देर रात राज्यसभा से भी पास हो गया । ये बिल कल लोकसभा से भी पास हो गया था । अब इसे माननीय राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद जी की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा । राष्ट्रपति जी की मंजूरी के बाद ही ये बिल कानून बन पाएगा । राज्यसभा में इस बिल के पक्ष में 165 वोट पड़े , वहीं विपक्ष में मात्र सात वोट पड़े ।

दूसरा वर्तमान और भी खास है। सुप्रीम कोर्ट में आज से सुना जाएगा अयोध्या में श्री राम मंदिर से जुड़ा मामला है , इसके लिए पांच जजों की संविधान पीठ का गठन हुआ है जिसकी अध्यक्षता चीफ जस्टिस रंजन गोगोई करेंगे । बाकी 4 सदस्य हैं- जस्टिस एस ए बोबडे, एन वी रमना, यु यु ललित और डी वाई चंद्रचूड़ । जजों की वरिष्ठता और उम्र के हिसाब से ये चारों जज भी भविष्य में चीफ जस्टिस बनने की कतार में है । यानी कोर्ट ने वरिष्ठ जजों की बेंच का गठन इस सुनवाई के लिए किया है । सविधान पीठ का गठन बताता है कि केस एक आम जमीन का मुद्दा भर नही है ।
भारत के प्रधान न्‍यायाधीश रंजन गोगोई का राम जन्‍मभूमि-बाबरी मामले में संवैधानिक पीठ बनाने का फैसला काफी चौंकाने है । साथ ही यह फैसला अपनी तरह का पहला है ।सुप्रीम कोर्ट में ऐसा पहले कभी नहीं हुआ जब मुख्‍य न्‍यायाधीश के प्रशासनिक आदेश पर एक संवैधानिक पीठ का गठन हुआ है और इसके लिए न तो किसी छोटी बैंच ने सलाह दी और न ही ऐसे सवाल सामने आए जिससे कि इस तरह की बेंच की जरूरत महसूस हो ।

आज विश्व हिन्दी दिवस है जो प्रत्येक वर्ष 10 जनवरी को पूरे विश्व में मनाया जाता है। इसका उद्देश्य विश्व में हिन्दी के प्रचार-प्रसार के लिये जागरूकता पैदा करना तथा हिन्दी को अन्तराष्ट्रीय भाषा के रूप में पेश करना है। प्रथम विश्व हिन्दी सम्मेलन 10 जनवरी, 1975 को नागपुर में आयोजित हुआ था। इसीलिए इस दिन को विश्व हिन्दी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

आज 10 जनवरी के दिन संयुक्त राष्ट्र महासचिव जेवियर पेरेज़ द कुइयर खाड़ी युद्ध को टालने के प्रयास में बग़दाद गए थे । वार्ता विफल होने पर 16 जनवरी को ऑपरेशन डेज़र्ट स्टॉर्म के साथ ही खाड़ी युद्ध की शुरुआत हो गई थी ।
आज 1954 में ब्रिटेन का कॉमेट जेट भूमध्यसागर
में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था । इस दुर्घटना में विमान में सवार सभी 35 लोग मारे गए थे ।
और जॉर्डन के शाह हुसैन अपनी पहली सार्वजनिक यात्रा पर इस्राइल गए थे ।इसराइल और जॉर्डन ने 1994 में हुई शांति संधि के बाद 46 साल से चले आ रहे युद्ध की समाप्ति की थी और शाह हुसैन की इसराइल यात्रा को दोनों देशों के रिश्तों में आए सुधार के प्रतीक के रूप में देखा जा रहा था ।

इतिहास में दर्ज आज 10 जनवरी की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ ।

1836 – प्राेफेसर मधुसूदन गुप्ता ने अपने चार छात्रों के साथ मिल कर पहली बाद मानव शरीर का विच्छेदन कर आंतरिक संरचना का अध्ययन किया ।
1861 – आज दुनिया के कई देश मेट्रो से यात्रा का आनंद उठा रहे हैं. इसकी शुरुआत 1863 में आज ही के दिन लंदन में विश्व की पहली अंडरग्राउंड रेल सेवा के साथ हुई थी,
1863 – को लंदन में मेट्रो सेवा को आम लोगों के इस्तेमाल के लिए खोल दिया गया ।
1963 – भारत सरकार ने स्वर्ण नियंत्रण योजना की शुरुआत की।
2006-  तत्कालीन प्रधानमन्त्री मनमोहन सिंह ने 10 जनवरी को प्रति वर्ष विश्व हिन्दी दिवस के रूप मनाये जाने की घोषणा की थी।
2008- ऑटो एक्सपो में टाटा ने पहली बार नैनो कार प्रदर्शित की।

1974 आज के ही दिन बॉलीवुड सुपरस्‍टार रितिक रोशन का जन्‍म हुआ था,
1894 पी. लक्ष्मीकांतम- कवि एवं लेखक
1908  पद्मनारायण राय – हिन्दी के निबन्धकार और साहित्यकार।
1940 के. जे. येसुदास – भारतीय पार्श्व गायक और शास्त्रीय संगीतकार।
1949 अल्लू अरविन्द, फ़िल्म निर्माता
1886 – जॉन मथाई, भारत के शिक्षाविद, अर्थशास्त्री एवं न्यायविद्
1933 – गुरदयाल सिंह, ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित पंजाबी साहित्यकार

आज 10 जनवरी जिनकी जयंती है ।
1996 – नाडिया – प्रसिद्ध भारतीय अभिनेत्री।
1969 – सम्पूर्णानंद- प्रसिद्ध राजनेता एवं लेखक
1994 – गिरिजाकुमार माथुर – प्रसिद्ध कवि एवं नाटककार।
1967 – राधाबिनोद पाल – टोक्यो, जापान युद्ध अपराध न्यायाधिकरण में भारतीय न्यायाधीश थे।