गुडमॉर्निंग शुभ रविवार 💐

0
143

गुडमॉर्निंग शुभ रविवार 💐

आज 4 नवंबर है , आज के दिन का एक इतिहास याद आ रहा है इस पटना का ,उस दिन भी रविवार था साल 2012 का था । बिहार की दो पार्टियां जो आज सरकार में है उस वक्त भी साथ मे सरकार चला रही थी भाजपा जदयू । मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार जी बड़े जोर सोर से विशेष राज्य के दर्जे की मांग के लिए प्रयासरत थे इसी क्रम में पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में बहुत बड़ी रैली जिसका नाम अधिकार रैली था ,का आयोजन किये थे और रैली पूरी तरह से सफल भी रही थी । वही दूसरी तरफ भाजपा के भीष्म पितामह श्रधेय कैलाश पति मिश्र जी का देहांत हुआ था तो पूरी पार्टी शोकाकुल थी । अचानक खबर आई कि तत्कालीन गुजरात के मुख्यमंत्री श्री नरेंद्र भाई मोदी जी पटना आ रहे है । मोदी जी पटना पहुचे और कैलासपति जी को श्रद्धांजलि दी कर फिर गुजरात लौट गए । राजनीति के जानकारों का कहना था कि मोदी जी के पटना में बिताए 40 मिनट का समय रैली पर भारी पड़ गया । खैर वह एक अलग दौर था आज अलग दौर है । उस वक्त भी हम सब साथ मे थे आज भी हम सब साथ मे है ।

आज 4 नवंबर के एक और इतिहास पटना से ही जुड़ा है । 4 नवम्बर 1974 पटना के सड़को पर देश के लिए कुछ कर गुजरने का जज्बा लिए हजारों छात्रों ने अपने आदर्श 72 वर्षीय जयप्रकाश नारायण को मान कर गांधी मैदान से मुख्यमंत्री निवास के लिए कूच कर रहे थे , सरकार के तरफ से डंडे बरसाए जा रहे थे । आजादी के बाद ऐसा पहली बार हुआ था देश में जब ऐसे आंदोलन में पुरुष और महिलाओं की भागीदारी बड़े पैमाने पर हुई थी । चार नवम्बर 1974 को पटना के गाँधी मैदान में घटी घटना संघर्ष के जज्बे का साक्षात उदाहरण है। इस दिन मुख्यमंत्री (कांग्रेसी अब्दुल गफूर) सहित सभी मंत्रियों के घेराव का कार्यक्रम था, जिसका नेतृत्व खुद जेपी करने वाले थे। पूरा पटना शहर जेल बना दिया गया था। बाँस-बल्लियों से सारी सड़कें घेर कर ऐसी व्यवस्था की गई थी कि एक भी व्यक्ति गांधी मैदान में प्रवेश न कर सके। अचानक चमत्कारी ढंग से 72 वर्षीय जेपी गांधी मैदान में प्रवेश कर गए। देखते-देखते घेराबंदी तोड़कर हजारों कार्यकर्ता गांधी मैदान में प्रवेश कर गए। पुलिस की गाडियां, यहां तक कि हेलिकाॅप्टर अश्रुगैस के गोले बरसाने लगे। इस विकट में स्थिति  जेपी की जीप पर उनकी सुरक्षा में सिर्फ महिला कार्यकर्ता थीं। अश्रुगैस से उनमें से कइयों के बदन और कपड़े जल गए, लेकिन उन्होंने जेपी का साथ नहीं छोड़ा। बाद में जुलूस लेकर जेपी आयकर चैराहे तक पहुँचे। वहां घेरेबंदी को तोड़ने की काशिश करने पर उन पर सांघातिक लाठीचार्ज किया गया। लाठी का एक भरपूर वार नानाजी देशमुख की बाँह टूट गयी। जेपी गिर पड़े, उन्हें चोटें आईं। सर पर पगड़ी और हाथ में लाठी लिए आगे बढ़ते जेपी की वह मुद्रा अमिट बन गई। पटना के आयकर चैराहे पर उसी भंगिमा वाले जेपी की प्रतिमा लगी है।
आज एक बार फिर पटना के सड़को पर लोकनायक जयप्रकाश नारायण के नेतृत्व में आंदोलन के दौरान शांतिपूर्ण राजभवन मार्च के दौरान हुए लाठी चार्ज को देख और झेल चुके लोग काला दिवस मनाने का निर्णय लिया है। आज प्रदेश के विभिन्न जिले से जेपी लोकतंत्र सेनानी शहर में जुटेंगे। आयकर गोलंबर स्थित जेपी प्रतिमा पर माल्यार्पण कर मौन जुलूस के रूप में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलेंगे।


आज ही के दिन 1946 में राष्ट्र संघ की वैज्ञानिक और सांस्कृतिक मामलों की संस्था युनेस्को का गठन 43 देशों के सहयोग से हुआ था । इस संस्था की स्थाप्ना का लक्ष्य राष्ट्रों के मध्य वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संपर्क स्थापित करना था उसका अन्य काम विभिन्न भाषाओं में पुस्तकों और पत्रिकाओं का प्रकाशन तथा राष्ट्रों के मध्य सांस्कृतिक संबंधों को प्रगाढ़ करना हैं। युनेस्को के घोषणापत्र में ध्यान योग्य बिंदु न्याय का सब लोगों द्वारा सम्मान क़ानून की प्रभुसत्ता तथा मूल स्वतंत्रता और मानवाधिकारों की रक्षा है। युनेस्को का मुख्यालय फ़्रांस की राजधानी पेरिस में है। आज यूनेस्को के 195 सदस्य देश हैं और सात सहयोगी सदस्य देश और दो पर्यवेक्षक सदस्य देश हैं। इसके ज्यादार क्षेत्रीय कार्यालय क्लस्टर के रूप में है, जिसके अंतर्गत तीन-चार देश आते हैं, इसके अलावा इसके राष्ट्रीय और क्षेत्रीय कार्यालय भी हैं। यूनेस्को के 27 क्लस्टर कार्यालय और 21 राष्ट्रीय कार्यालय हैं।
यूनेस्को वैश्विक धरोहर की इमारतों और पार्कों के संरक्षण में सहयोग करता है। यूनेस्को की विरासत सूची में भारत के कई ऐतिहासिक इमारत और पार्क शामिल हैं। दुनिया भर के 332 अंतरराष्ट्रीय स्वयंसेवी संगठनों के साथ यूनेस्को के संबंध हैं।

आज 4 नवंबर है ,आज ही के दिन 2008 में अमेरिका में राष्ट्रपति का चुनाव था । काले गोरे के के बीच की गहरी खाई को पाटते हुए आज के दिन 9 साल पहले बराक ओबामा ने दुनिया के सबसे शक्तिशाली मुल्क अमेरिका के राष्ट्रपति के लिए चुने का पद संभाला था । ओबामा पहले अफ्रीकी -अमेरिकी थे, जो राष्ट्रपति पद तक पहुंचे. उन्होंने एरिज़ोना के सीनेटर जॉन मैक्केन को मात दी थी । 4 नवंबर 2008 के दिन चुनाव में 6.94 करोड़ से ज़्यादा अमेरिकी जनता ने ओबामा के समर्थन में वोट दिया ।जबकि उनके विरोधी जॉन मैक्केन को 5.99 करोड़ जनता के वोट मिले । 1960 में जॉन कैनेडी के बाद ओबामा ऐसे वर्तमान अमेरिकी सीनेटर थे, जो राष्ट्रपति पद के लिए चुने गए ।


शकुन्तला देवी  जिन्हें आम तौर पर “मानव कम्प्यूटर” के रूप में जाना जाता है, बचपन से ही अद्भुत प्रतिभा की धनी एवं मानसिक परिकलित्र (गणितज्ञ) थीं। उनकी प्रतिभा को देखते हुए उनका नाम 1982 में ‘गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स’ में भी शामिल किया गया। शकुन्तला देवी के अंदर पिछली सदी की किसी भी तारीख का दिन क्षण भर में बताने की क्षमता थी। उन्होंने कोई औपचारिक शिक्षा प्राप्त नहीं की थी। वह ज्योतिषी भी थीं। मानव कम्प्यूटर के नाम से प्रसिद्ध शकुन्तला देवी का जन्म आज ही के दिन 1929 में
बंगलौर में एक रुढ़ीवादी कन्नड़ ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उनकी मिर्त्यु 21 अप्रैल 2013 को 83 वर्ष की उम्र में हुई । जटिल गणितीय गणनाएं अत्यंत सरलता से मौखिक रूप से हल करने की कुशलता की वजह से उन्हें मानव कम्प्यूटर का नाम दिया गया।

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी आज 4 नवंबर को घोषणा पत्र जारी करेगी । पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह जी रायपुर में संकल्प पत्र जारी करेंगे ।

4 नवंबर 2018 कार्तिक मास की द्वादशी तिथि दिन रविवार आप सब के लिए शुभ और मनोकूल हो ।