प्रणाम भारत 🙏इतिहास के झरोखे से देखे तो 2 जनवरी

0
15

प्रणाम भारत 🙏, इतिहास के झरोखे से देखे तो 2 जनवरी के कई अहम पड़ाव है ।

1954 को पद्म विभूषण सम्मान की स्थापना की गई थी। पद्म विभूषण सम्मान भारत सरकार द्वारा दिया जाने वाला दूसरा उच्च नागरिक सम्मान है, जो देश के लिए असैनिक क्षेत्रों में बहुमूल्य योगदान के लिए दिया जाता है। यह सम्मान भारत के राष्ट्रपति द्वारा दिया जाता है। यह सम्मान भारत रत्‍न के बाद दूसरा प्रतिष्ठित सम्मान है। पद्म विभूषण के बाद तीसरा नागरिक सम्मान पद्म भूषण है। यह सम्मान किसी भी क्षेत्र में विशिष्ट और उल्लेखनीय सेवा के लिए प्रदान किया जाता है। इसमें सरकारी कर्मचारियों द्वारा की गई सेवाएं भी शामिल हैं।
2 जनवरी 1971 में ग्लासगो के इब्रॉक्स पार्क में दो मज़बूत प्रतिद्वंदी टीमें सेल्टिक और रेंजर्स के बीच हुए फुटबॉल मुक़ाबले के बाद घटी घटना में 66 लोग मारे गए थे। यह हादसा उस समय हुआ, जब मैच देखकर प्रशंसक सुरक्षा घेरे को तोड़कर स्टेडियम से बाहर निकल रहे थे। प्रारंभिक रिपोर्टों के अनुसार रेंजर्स टीम के सैकड़ों की संख्या में प्रशंसक इस आशंका में स्टेडियम छोड़कर भागने लगे कि सेल्टिक जीत जाएगी, लेकिन उनके सीढ़ियों से उतरते वक़्त ये हादसा हो गया था।
2 जनवरी 1973 को सेना के जवानों और देश के लिए प्रेरणा स्रोत जनरल एसएफए जे. मानिक शॉ को फ़ील्ड मार्शल बनाया गया। देश के नागरिकों और नौजवान दिलों पर राज करने वाले फील्ड मार्शल एसएफ जमशेदजी मानेक शॉ का जन्म 1914 को पंजाब के अमृतसर में हुआ था। उनके अंदर उच्च कोटि की प्रशासनिक क्षमता थी। अपने जीवन काल में पांच युद्धों में मानेक शॉ ने भाग लिया और अपनी बहादुरी से सबको अचंभित किया। 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच भयंकर युद्ध सैम मानिक शॉ के नेतृत्व में ही लड़ा गया था। इसी युद्ध में सैम ने पाकिस्तान को काटकर दुनिया के नक्शे पर एक नए देश को जन्म दे दिया था I
2 जनवरी 1989 को अद्भुत कलाकार, समाज के दंभ पर हल्ला बोलने की ताकत रखने वाले सफदर हाशमी को असमाजिक तत्वों ने बड़ी बेरहमी से पीटा था, जिस वजह से अगले ही दिन उनकी मौत हो गई थी। वह एक क्रांतिकारी और हिन्दू-मुस्लिम एकता की मिसाल थे। वह 1976 में सीपीएम में शामिल हो गए थे। आम आदमी के दर्द को हाशमी के थियेटरों में जिस बेचैनी से उठाया जाता था, उसे देख लोग मंत्रमुग्ध हो जाते थे। औरत, गांव से शहर तक, राजा का बाजा होते हुए, जब उनके थियेटर का सफर नुक्कड़ नाटक हल्ला बोल पर पहुंचा, तो सफदर ने इसे गाजियाबाद नगर निगम चुनाव के वक्त प्रस्तुत करने का फैसला किया। जब वह इसे साहिबाबाद के झंडापुर गांव में पेश कर रहे थे, तभी असमाजिक तत्वों ने उन पर हमला कर दिया, जिस कारण उनकी मौत हो गई।
2 जनवरी 1993 में बॉसनिया में शांति के लिए वार्ता हुई थी। बॉसनिया के तीन अलग-अलग गुटों ने वहां नौ महीने से जारी लड़ाई को समाप्त करने और शांति स्थापित करने के मक़सद से यह बैठक की थी। युद्ध छिड़ने के बाद ऐसा पहली बार हुआ था, जब बॉसनिया के सर्ब, मुस्लिम और क्रोएट्स के नेताओं ने आमने-सामने बैठकर बातचीत की थी। जेनिवा में इस बैठक को संयुक्त राष्ट्र के दो विशेष राजदूतों सायरस वनस और लार्ड ओवन ने इन तीनों गुटों को एक बैठक करने को कहा था। इन दोनों राजदूतों ने बॉसनिया को 10 स्वायत्त प्रांतों में बांटने और विकेंद्रीकृत सरकार बनाने का प्रस्ताव दिया था।

2 जनवरी की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
1757 – राबर्ट क्लाइव ने नवाब सिराजुद्दौला से कलकत्ता (कोलकाता) को वापस छीना। 1899 – रामकृष्ण के आदेश के बाद साधु कलकत्ता (कोलकाता) स्थित बेलूर मठ में रहने लगे। 1941 – द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जर्मनी के हमले से ब्रिटेन के कार्डिफ शहर स्थित लेनडॉफ कैथेड्रल को भारी नुकसान। 1942 – द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जापानी सेना ने फिलीपींस की राजधानी मनीला पर कब्जा किया। 1954 – पद्म विभूषण पुरस्कार की स्थापना 2 जनवरी, 1954 में की गयी। भारत रत्‍न पुरस्कार 2 जनवरी, 1954 को प्रारम्भ किया गया। 1973 – जनरल एस. एफ. ए. जे. मानिक शॉ को फ़ील्ड मार्शल बनाया गया। 1975 – बिहार के समस्तीपुर में जिले में एक बम विस्फोट में रेलमंत्री ललित नारायण मिश्रा घायल। 1989 – रणसिंधे प्रेमदास श्रीलंका के राष्ट्रपति बने। 1991 – तिरुअनंतपुरम हवाई अड्डा को अंतर्राष्ट्रीय स्तर का बनाया गया। 1993 – श्रीलंका गृह युद्ध – श्रीलंकाई नौसेना ने जाफना क्षेत्र में 35 से 100 नागरिकों की हत्या की। 2001 – बांग्लादेश में ‘फ़लवा’ अवैध घोषित। 2002 – अर्जेन्टीना में 12 दिन में पांचवां राष्ट्रपति नियुक्त, देश दिवालिया घोषित, काठमाण्डू में दक्षेस विदेश मंत्रियों की बैठक प्रारम्भ, पाकिस्तान आतंकवादियों को सौंपने के लिए सशर्त तैयार। 2008 – बलिया लोकसभा सीट पर हुए उप-चुनाव में समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी व पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर विजयी रहे। सैन फ़्रांसिस्को में रहने वाली समन हसनैन वर्ष, 2002 की मिसेज पाकिस्तान वर्ल्ड चुनी गईं। चिली का दक्षिणी लाइमा ज्वालामुखी फटा। 2009 – रिजर्ब बैंक ऑफ़ इंडिया ने बाज़ार में 20 करोड़ रुपये के राहत पैकेज देने का निर्णय लिया। भारत के सौरभ घोषाल स्कवैश रैकिंग में कैरियर की सर्वश्रेष्ठ रैकिंग हासिल करने वाले पहले खिलाड़ी बने। 2010 – सोमालियाई जलदस्युओं ने इटली के जेनओआ से सोमालिया होते हुए भारत के कांडला बंदरगाह आ रहे सिंगापुर ध्वजवाहक एम.वी. प्रमोनी नामक रसायनिक जलपोत का अपहरण कर लिया। उत्तर प्रदेश में घने कोहरे के कारण पाँच ट्रेनों की दुर्घटना में 10 यात्रियों की मृत्यु हो गई और 40 घायल हो गए। इटावा के पास सराय भोपत स्टेशन पर दिल्ली की ओर आ रही लिच्छवी एक्सप्रेस ने मगध एक्सप्रेस को पीछे से टक्कर मार दी। कानपुर के पनकी से दो किलोमीटर की दूरी पर दिल्ली से जा रही प्रयागराज उसी ट्रैक पर खड़ी गोरखधाम एक्सप्रेस से टकरा गई। सरयू एक्सप्रेस एक ट्रॉली से टकरा गई। 2016 – सऊदी अरब के जाने माने शिया मौलवी निम्र अल निम्र और 46 अन्य साथियों को सरकार की ओर से फाँसी दी गई।

2 जनवरी को जन्मे व्यक्ति
1970 – बुला चौधरी – प्रसिद्ध तैराक। 1940 – एस. आर. श्रीनिवास वर्द्धन- भारतीय अमरीकी गणितज्ञ। 1906 – डी. एन. खुरोदे – प्रसिद्ध भारतीय उद्यमी थे, जिनका भारत के दुग्ध उद्योग में योगदान। 1905- जैनेन्द्र कुमार- हिन्दी साहित्य के प्रसिद्ध मनोवैज्ञानिक कथाकार और उपन्यासकार। 1878 – मन्नत्तु पद्मनाभन – केरल के प्रसिद्ध समाज सुधारक

2 जनवरी को हुए निधन
2018 – अनवर जलालपुरी – ‘यश भारती’ से सम्मानित उर्दू के मशहूर शायर थे। 2014 – अन्नाराम सुदामा, राजस्थानी भाषा के प्रसिद्ध साहित्यकार 2011- बली राम भगत, प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी एवं पूर्व लोकसभा अध्यक्ष 2010 – राजेन्द्र शाह- गुजराती साहित्यकार 1989 – सफ़दर हाशमी – प्रसिद्ध मार्क्सवादी नाटककार, कलाकार, निर्देशक एवं गीतकार। 1987 – हरे कृष्ण मेहताब – ‘भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस’ के प्रमुख नेता तथा आधुनिक उड़ीसा के निर्माताओं में से एक। 1977 – अजित प्रसाद जैन – स्वतंत्रता सेनानी और प्रसिद्ध राष्ट्रीय कार्यकर्ता थे। 1950 – डॉ. राधाबाई – प्रसिद्ध महिला स्वतंत्रता सेनानी तथा समाज सुधारका। 1950 – मौलाना मज़हरुल हक़ – स्वतंत्रता सेनानी थे।

आज का दिन आप सब के लिए मनोहारी हो ।

जय श्री राम