सप्तमी में मंगलमय सुप्रभात तदोपरांत काल भैरव अष्टमी या भैरव जयंती शुभकामनाए

0
207

सप्तमी में मंगलमय सुप्रभात तदोपरांत काल भैरव अष्टमी या भैरव जयंती शुभकामनाएं

आज 29 नवंबर भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम का अहम दिन होगा जब भारतीय अंतरिक्ष अनुंसान संगठन (इसरो) श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केन्द्र से पीएसएलवी-सी43 राकेट का प्रक्षेपण किया जाएगा । सबसे खास है कि इसके द्वारा भारतीय उपग्रह एचवाईएसआईएस और 30 अन्य सेटेलाइटों को अपने साथ अंतरिक्ष ले जाएगा जिनमें 23 अमेरिका के सेटेलाइट होंगे । पीएसएलवी की यह 45वीं उड़ान होगी । जिन क़7देशों के उपग्रह भेजे जाएंगे उनमें अमेरिका 23 सेटेलाइट तथा आस्ट्रेलिया, कनाडा, कोलंबिया, फिनलैंड, मलेशिया, नीदरलैंड एवं स्पेर्न प्रत्येक 0का एक उपग्रही शामिल हैं।

परवाज़, नई दुनिया को सलाम, ख़ून की लकीर, अमन का सितारा, एशिया जाग उठा, पत्थर की दीवार, मेरा सफ़र जैसी रचनाएं रचने वाले पद्मश्री, ज्ञानपीठ पुरस्कार, राष्ट्रीय इक़बाल सम्मान, उत्तर प्रदेश उर्दू अकादमी पुरस्कार, रूसी सोवियत लैण्ड नेहरू पुरस्कार से नवाजे गए ऊर्दू के मशहूर शायर लेखक अली सरदार जाफ़री की आज जयंती है ।
कॉम्युनिस्ट आंदोलन में जेल पर उनकी बेमिसाल शायरी आप भी पढ़े …
मुझे गिरफ्तार करके जब जेल ला रहे थेपुलिसवाले
तुम अपने बिस्तर से अपने दिल के अधूरे ख़्वाबों को लेकर बेदार हो गई थीं
तुम्हारी पलकों से नींद अब भी टपक रही थी
मगर निगाहों में नफरतों के अज़ीम शोले भड़क उठे थे…

70 साल पहले संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 29 नवंबर 1947 को विभाजन योजना प्रस्ताव पारित कर यहूदियों और अरब देशों के लिए सीमाएं तय कर दी थीं । यहूदी राष्ट्र इस्राएल ने प्रस्ताव स्वीकार कर लिया जबकि अरब और फिलिस्तीनी नेताओं ने इसे खारिज कर दिया । उसके बाद 1948 में यहूदी राष्ट्र इस्राएल का गठन हुआ था ।

भारत के प्रसिद्ध उद्योगपति ,भारत के नागरिक उड्डयन के पिता ,उसूलों के बेहद पक्के व्यक्ति , भारत के पहले लाइसेंस प्राप्त पायलट , भारतीय उद्योगों का ढांचा खड़ा करने में अपनी अहम भूमिका निभाने वाले शख्सियत जो नैतिक मूल्य और उच्‍च आदर्श के लिए पूरी दुनियां में मशहूर  भारत रत्न जहाँगीर रतनजी दादाभाई टाटा उर्फ जेआरडी. टाटा की आज पुण्यतिथि है । श्रद्धांजलि । टाटा मेमोरियल सेंटर फ़ॉर कैंसर रिसर्च एंड ट्रीटमेंट, टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ़ सोशल साइंसेज’, ‘टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ़ फ़ंडामेंटल रिसर्च’, और ‘नेशनल सेंटर फ़ॉर परफ़ार्मिंग आर्ट्स’ की भी स्‍थापना कर उधोग के साथ जन कल्याण में भी उन्होंने महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई ।अनेक संस्थाओं और विश्वविद्यालयों द्वारा सम्मानित जे. आर. डी. टाटा का 89 वर्ष की आयु में वर्ष 29 नवम्बर, 1993 में जिनेवा (स्विट्ज़रलैण्ड) में निधन हो गया। उन‌की मृत्यु पर संसद ने अपनी कार्यवाही स्थगित कर दी थी। यह एक ऐसा सम्मान था, जो आमतौर पर केवल सांसदों को ही नसीब होता है। मरणोपरांत उन्हें पेरिस में ही दफ़नाया गया।

आज मार्ग शीर्ष कृष्ण सप्तमी तदोपरांत अष्टमी तिथि दिन बृहस्पतिवार काल भैरव अष्टमी, भैरव जयंती भी है आप सभी के लिए शुभ मनोकूल हो ।