1990 की सुबह याद कर सुप्रभातम करु या आज की ….

0
105

मंगलम सुप्रभात,
आज 2 नवंबर है इतिहास गवाह है आज के दिन का किसे याद करे समझ नही आ रहा है । आज के दिन 1990 की सुबह याद कर रुह कांप जाता जब राम मंदिर बनाने के लिए निकले सैकड़ो साधु संतों कार सेवको पर राम की नगरी में गोलियां बरसाई गई थी या फिर इंटरटेनमेंट की दुनिया के बेताज बादशाह के जन्मदिन की शुभकामनाएं लिखूं …

आई लव यू क-क-क-क-क किरण’ ।
कहते हैं अगर दिल से किसी चीज को चाहो तो पूरी कायनात उसे तुमसे मिलाने की कोशिश में लग जाती है।
कभी कभी कुछ जीतने के लिए कुछ हारना भी पड़ता है आैर हार के जीतने वाले को बाजीगर कहते हैं’ ।
कहते हैं अगर दिल किसी चीज को चाहो तो पूरी कायनात उसे तुमसे मिलाने की कोशिश में लग जाती है।
कोई बात नहीं सेनोरिटा…बड़े बड़े देशों में ऐसी छोटी-छोटी बातें होती रहती हैं’ ।
प्यार दोस्ती है। अगर वो मेरी सबसे अच्छी दोस्त नहीं बन सकती तो मैं उसे कभी प्यार कर ही नहीं सकता, क्योंकि दोस्ती बिना तो प्यार होता ही नहीं ……
ऐसे न जाने कितने डायलॉग आप सुने होंगे पिछले दो दसक से , टेलीविजन की दुनिया से निकल कर बड़े स्क्रीन पर चमकना आसान नही होता लेकिन दिल दरिया, फौजी, सर्कस जैसे टेलीविजन के सीरियल्स में अपनी काबिलियत का लोहा मनवा कर दीवाना, बाज़ीगर, डर, अंजाम, कभी हां कभी ना, करन अर्जुन, दिलवाले दुल्‍हनियां ले जाएंगे, चाहत, यस बॉस, परदेस, दिल तो पागल है, कुछ कुछ होता है, मोहब्‍बतें, कभी खुशी कभी ग़म, देवदास, कल हो न हो, मैं हूं ना, वीर जारा, डॉन, चक दे इंडिया, ओम शांति ओम, रब ने बना दी जोड़ी, माई नेम इज़ ख़ान, डॉन 2, जब तक है जान और चेन्नई एक्सप्रेस……. तक सफर करने वाले बॉलीवुड के बादशाह’, ‘किंग ऑफ बॉलीवुड’, ‘किंग खान’ , एस आरके , किंग खान उर्फ शाहरुख खान को जन्मदिन की ढेर सारी बधाई । इस सफर में आठ बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का फ़िल्म फेयर पुरस्कार , पदमश्री जैसे पुरस्करो से नवाजे गए शाहरुख रोमांस, ड्रामा, कॉमेडी, एक्‍शन जैसे कठिन रौल में अभिनय कर चुके है ।
आज ही के दिन 1965 में जन्मे शाहरुख खान को उनके जन्मदिन पर ढेर सारी शुभकामनाएं ।


आज 2 नवंबर है आज ही के दिन 1990 में अयोध्या में जो हुआ था वह कोई भूल नही सकता है ।  राम मंदिर आन्दोलन को लेकर अयोध्या चलो के आह्वान पर जहां लाखों राम भक्त पूर्णिमा तिथि पर अयोध्या में चौदह कोसी परिक्रमा और सरयू स्नान के लिए पहुचे थे । 2 नवम्बर की सुबह कारसेवक अयोध्या की गलियों में जय श्री राम का उद्घोष कर रहे थे कि निर्देश जारी हुआ और पुलिसकर्मियों ने गोलियां चला दी | पुलिस कर्मियों ने गोली चलाने से पहले कारसेवकों को चेतावनी नही दी थी जिसके कारण उन्हें संभलने का मौका भी नही मिला और उनके सामने ही कई कारसेवक मारे गए ।
उसके बाद अयोध्या की गलियों में जो मंजर था वो दिल दहलाने वाला था तस्वीरें ऐसी थी की दिखाई नही जा सकती, कहा जाता है कि अयोध्या के हनुमान गढ़ी मंदिर के सामने लाल कोठी की संकरी गली में भरे कारसेवकों पर गोलियां चला दी गयीं कलकत्ता से आये कोठारी बंधू भी कारसेवा में शामिल होने आये थे लाल कोठी के पास दोनों भाइयों में से एक को गोली मार दी गई दुसरे ने सुरक्षाकर्मियों से भाई की लाश को उठाने की अनुमति लेकर जैसे ही उसका शव उठाया उसे भी सुरक्षाकर्मियों ने गोली मार दी और मौके पर ही दोनों की मौत हो गयी, कुछ उस वक्त के चश्मदिन बताते है कि वहाँ तमाम साधू संत और कारसेवक ऐसे थे जिन्हें अयोध्या के अलग अलग स्थानों पर गोलियां मारी गयी थी और उनके शव बिखरे पड़े थे,सबसे बुरा हाल सरयू पुल का था जहां भगदड़ में कारसेवकों के सामान बिखरे पड़े थे और उनके शव भी लावारिस पड़े थे जिन्हें पुलिसकर्मी अपनी गाड़ियों में लाद रहे थे | मरने वालों की संख्या कितनी थी इसका सही आंकड़ा आज तक नही मिल पाया लेकिन सरकार ने लगभग डेढ़ दर्जन लोगों के मारे जाने की पुष्टि की थी | गोली चलाने का आदेश तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने दिया था जिसका जिक्र एक टेलीविजन कार्यक्रम में करते हुए कहा कि “देश की एकता के लिए मुझे गोली चलवानी पड़ी । हालांकि मुझे इसका अफसोस है , लेकिन और कोई विकल्प नहीं था ”


वर्तमान मध्यप्रदेश राज्य, जैसा कि सर्वविदित है, 02/11/1861 को मूल रूप से मध्य क्षेत्र (सेंट्रल प्राविंश ) के रूप में सृजित किया गया था ।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी आज 2 नवंबर को पटना सहित देश के कई भागों में मध्यम एवं लघु उद्यमियों को वीडियो संवाद के माध्यम से संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री जी पटना सिटी के बल्ब उद्यमियों से बात करेंगे। उद्योग विभाग ने इसके लिए कुछ उद्यमियों को निमंत्रण दिया है। इसकी तैयारी पटना सिटी के हाजीगंज स्थित अरोड़ा हाउस में किया गया है।

2 नवंबर को जन्मे व्यक्ति –
सिखों के चौथे गुरु रामदास का जन्म 1534 में हुआ।
समाज सुधारक और होम्‍योपैथ को बढ़ावा देने वाले महेंद्रलाल सरकार का जन्‍म 1833 में हुआ था.
शियाओं के निजारी इस्माईली मत के आध्यात्मिक नेता आगा ख़ाँ तृतीय का जन्म 1877 में हुआ।
असम के स्वतंत्रता सेनानी तथा राजनेता बसंत कुमार दास का जन्म 1883  में हुआ।
प्रसिद्ध भारतीय अभिनेता तथा फ़िल्म निर्माता- निर्देशक सोहराब मोदी का जन्म 1897 में हुआ।
प्रसिद्ध भारतीय चरित्र अभिनेता राम मोहन का जन्म 1929 में हुआ।
साहित्यकार ममता कालिया का जन्म 1940 में हुआ।
भारत के अदम्य निर्भीकता वाले पत्रकार, बुद्धिजीवी, प्रसिद्ध लेखक और राजनेता अरुण शौरी का जन्म 1941 में हुआ।
हिन्दी फ़िल्म संगीतकार अनु मलिक का जन्म 1960 में हुआ।
भारत के प्रसिद्ध पहलवान तथा कुश्ती के खिलाड़ी योगेश्वर दत्त का जन्म 1982 में हुआ।

2 नवंबर को हुए निधन
मराठी रंगमंच में क्रांति लाने वाले प्रसिद्ध नाटककार अण्णा साहेब किर्लोस्कर का 1885 में निधन।
जार्ज बर्नार्ड शा का 1950 में 97 वर्ष की आयु में देहावसान।
अमेरिकी गणितज्ञ श्रीराम शंकर अभयंकर का 2012 में निधन।

शक संवत् 1940 विक्रम संवत् 2075 कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की नवमी तिथि प्रातः 7 बजकर 10 मिनट तक उपरांत दशमी तिथि दिन शुक्रवार आप सबके मनोकूल हो ।
जय श्री राम ।